Please join, like or share our Vanipedia Facebook Group
Go to Vaniquotes | Go to Vanisource | Go to Vanimedia


Vanipedia - the essence of Vedic knowledge

HI/680112 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लॉस एंजेलेस में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
श्रीमद भागवतम में इसका निर्देशन किया गया है, तस्माद् गुरुम प्रपद्येत (श्री.भा. ११.३.२१): "व्यक्ति को आध्यात्मिक गुरु के सामने आत्मसमर्पण करना चाहिए ।" तस्माद् गुरुम प्रपद्येत जिज्ञासुः । समर्पण कौन करेगा ? जो बहुत जिज्ञासु है, "भगवान क्या है ?" उदाहरण के तौर पर, "भगवान क्या है ? मैं क्या हूँ ?" अब, जब तक कोई इस विषय के बारे में गंभीरता से जिज्ञासु नहीं है, तब तक आध्यात्मिक गुरु की कोई आवश्यकता नहीं है ।
680110 - प्रवचन श्री.भा. १.५.२ - लॉस एंजेलेस