Please join, like or share our Vanipedia Facebook Group
Go to Vaniquotes | Go to Vanisource | Go to Vanimedia


Vanipedia - the essence of Vedic knowledge

HI/680316 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद सैन फ्रांसिस्को में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
आत्मा, कृष्ण का उत्पादन है । इसलिए अंततः, कृष्ण हमारे सबसे प्रिय दोस्त है । हम किसी से प्रेम करने की कोशिश कर रहे हैं । वह कृष्ण का विकृत प्रतिबिंब है । वास्तव में... बिल्कुल बच्चे की तरह । बच्चा मां के स्तन की खोज में है, और यह रो रहा है । यदि कोई बच्चे को लेता है, तो वह संतुष्ट नहीं होता है । क्योंकि वह यह व्यक्त नहीं कर सकता है कि "मुझे अपनी मां चाहिए ।" इसी तरह, हम कृष्ण को एक विकृत तरीके से प्रेम करने की लालसा में हैं । लेकिन क्योंकि हमें कृष्ण की कोई जानकारी नहीं है, हम कृष्ण के साथ अपने रिश्ते को भूल गए हैं, इसलिए हम इस शरीर, उस शरीर से प्रेम कर रहे हैं ।
680316 - प्रवचन अंश - सैन फ्रांसिस्को