Please join, like or share our Vanipedia Facebook Group
Go to Vaniquotes | Go to Vanisource | Go to Vanimedia


Vanipedia - the essence of Vedic knowledge

HI/680325 बातचीत - श्रील प्रभुपाद सैन फ्रांसिस्को में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
तो मुझे कृष्ण भावनामृत का अभ्यास करना है ताकि अंतिम क्षण में मैं कृष्ण को भूल न जाऊँ । तब मेरा जीवन सफल है । भगवद गीता में कहा गया है कि यं यं वापि स्मरन्भावं त्यजत्यन्ते कलेवरम् (भ.गी. ८.६) । मृत्यु के समय, जैसा व्यक्ति सोचता है, उसका अगला जीवन वैसा शुरू होता है । बहुत अच्छा उदाहरण दिया जाता है, जैसे हवा बह रही है, तो अगर हवा एक अच्छे गुलाब के बगीचे के ऊपर से बह रही है, तो गुलाब की सुगंध को अन्य स्थान पर ले जाती है । और यदि हवा एक गंदी जगह पर से बह रही है तो दुर्गन्ध को अन्य स्थान पर ले जाती है । इसी प्रकार मानसिक स्थिति चेतना मेरे अस्तित्व का सूक्ष्म रूप है ।
680325 - बातचीत - सैन फ्रांसिस्को