Please join, like or share our Vanipedia Facebook Group
Go to Vaniquotes | Go to Vanisource | Go to Vanimedia


Vanipedia - the essence of Vedic knowledge

HI/680506b प्रवचन - श्रील प्रभुपाद बॉस्टन में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
तो कृष्ण भावनामृत की यह प्रक्रिया ब्राह्मण, वैष्णव, की एक निर्माण प्रक्रिया है । वैष्णव का अर्थ है ब्राह्मणवादी चरण को पार कर जाना । ब्रह्म जानाती इति ब्राह्मण । जिसने ब्रह्म का बोध कर लिया है, वह ब्राह्मण कहलाता है । ब्रह्म के साक्षात्कार के बाद, परमात्मा का बोध, फिर भगवान का साक्षात्कार । और जो परम भगवान, विष्णु, को समझने के मंच पर आता है, उसे वैष्णव कहा जाता है । वैष्णव का अर्थ है कि वह पहले से ही एक ब्राह्मण है ।
680506 - प्रवचन ब्राह्मण दीक्षा - बॉस्टन