Please join, like or share our Vanipedia Facebook Group
Go to Vaniquotes | Go to Vanisource | Go to Vanimedia


Vanipedia - the essence of Vedic knowledge

HI/681108c प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लॉस एंजेलेस में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"तृणाद अपि सुनीचेन
तरोर अपि सहिष्णुना
(श्री चैतन्य चरितामृत आदिलीला १७.३१)

कौन योग्य है हरे कृष्ण गुणगान करने के लिए ? वे परिभाषा दे रहे हैं। क्या है वह? तृणाद अपि सुनीचेन: घास से भी विनम्र। तुम जानते हो घास को, हर कोई घास के ऊपर रौंदता है, किन्तु वह प्रतिवाद नहीं करती - " ठीक है।" तो तृणाद अपि सुनीचेन: व्यक्ति को घास से भी (अधिक) विनम्र होना चाहिए। और तरोर अपि सहिष्णुना... तरोर मायने " वृक्ष ।" वृक्ष बहुत सहिष्णु होते हैं, सहिष्णुता के आदर्श, हज़ारों वर्ष खड़े, एक स्थान (पर), (कोई) प्रतिवाद नहीं करते।"

681108 - प्रवचन BS 5.29 - लॉस एंजेलेस

|Vanisource:681108 - Lecture BS 5.29 - Los Angeles|681108 - प्रवचन BS 5.29 - लॉस एंजेलेस}}