Please join, like or share our Vanipedia Facebook Group
Go to Vaniquotes | Go to Vanisource | Go to Vanimedia


Vanipedia - the essence of Vedic knowledge

HI/681219c प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लॉस एंजेलेस में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"ठीक जैसे जगाई-मधाई। जगाई-मधाई, वे सबसे अधिक पापी मनुष्य थे चैतन्य महाप्रभु के समय में। तो जब उन्होंने चैतन्य महाप्रभु को अपराध स्वीकरण के साथ समर्पण किया, "मेरे स्वामी, हमने इतने सारे पापकर्म करे हैं। कृपया हमारी रक्षा कीजिये," चैतन्य महाप्रभु ने पूछा कि "हाँ, मैं तुम्हें स्वीकार करूंगा और मैं तुम्हारी रक्षा करूंगा, बशर्ते तुम वायदा करो कि ऐसे पापमय कर्म और कभी नहीं करोगे।" तो उन्होंने स्वीकार किया, "हाँ, जो कुछ भी हमने (अबतक) करा है, बस। हम अब (पापकर्म) कभी नहीं करेंगे।" तब चैतन्य महाप्रभु ने उन्हें स्वीकार करा और वे महान भक्त बन गए, और उनका जीवन सफल हो गया। वही विधि यहाँ भी है। इस दीक्षा का मतलब है कि तुम्हें (याद रखना है)..., सभी को याद रखना चाहिए कि जो भी पापकर्म व्यक्ति ने अपने पिछले जन्मों में किये हैं, अब वह खाता बंद। उधार और जमा बंद।"
681219 - प्रवचन Initiation - लॉस एंजेलेस