Please join, like or share our Vanipedia Facebook Group
Go to Vaniquotes | Go to Vanisource | Go to Vanimedia


Vanipedia - the essence of Vedic knowledge

HI/680603 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद मॉन्ट्रियल में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
कृष्ण भावनामृत एक विज्ञान है जो सभी के लिए नहीं है । यह सभी के लिए है - यह बहुत आसान और उदात्त है - लेकिन साथ ही, माया का फंदा और शक्ति इतनी मजबूत है कि वह इस आसान और उदात्त आध्यात्मिक प्रक्रिया को स्वीकार करने की अनुमति नहीं देती है । इसलिए कृष्ण भगवद गीता में कहते हैं कि कई हजारों और लाखों लोगों में से, कोई एक व्यक्ति को आध्यात्मिक बोध में रुचि है । मनुष्याणां सहस्रेषु ।
680603 - प्रवचन भ.गी. ७.३ - मॉन्ट्रियल