Please join, like or share our Vanipedia Facebook Group
Go to Vaniquotes | Go to Vanisource | Go to Vanimedia


Vanipedia - the essence of Vedic knowledge

HI/680813 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद मॉन्ट्रियल में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
भगवद गीता में दो चेतनाओं का वर्णन है । जैसे मैं अपने पूरे शरीर में सचेत हूं । यदि आप मेरे शरीर के किसी भी हिस्से को चुटकी लेते हैं, तो मुझे महसूस होता है । यह मेरी चेतना है । मेरी चेतना मेरे सारे शरीर में फैली हुई है । यह भगवद गीता में बताया गया है, अविनाशि तद् विद्धि येन सर्वमिदं ततम् (भ.गी. २.१७): "वह चेतना जो इस शरीर में फैली हुई है, वह शाश्वत है ।" और अन्तवन्त इमे देहा नित्यस्योक्ताः शरीरिणः (भ.गी. २.१८): "लेकिन यह शरीर अन्तवन्त है," अर्थात नाशवान है । "यह शरीर नाशवान है, लेकिन यह चेतना अविनाशी है, शाश्वत है ।" और वह चेतना, या आत्मा, एक शरीर से दूसरे शरीर में स्थानांतरित होती है । जैसे हम कपडे बदलते हैं ।
680813 - प्रवचन - मॉन्ट्रियल